प्रवेश निषेध -

निम्न प्रकार के अभ्यर्थियों का प्रवेश संभव नहीं है l

अतः आवेदन पत्र प्रस्तुत न करें

1- ऐसे संस्थागत अभ्यर्थी, जो पिछली कक्षा में अनुत्तीर्ण हो गये हैं l

2- ऐसे अभ्यर्थी जिनके विरुद्ध महाविद्यालय प्रांगण में अथवा बाहर अवांछनीय व्यव्हार करने अथवा महाविद्यालय के किसी प्राध्यापक एवं कर्मचारी के प्रति अभद्र व्यवहार करने का आरोप है l

3- ऐसे अभ्यर्थी जो पिछली परीक्षा में अनुचित साधन प्रयोग करने के दोषी पाए गये हैं अथवा दण्डित किये गये हैं l

4- ऐसे अभ्यर्थी जिन पर महविद्यालय का शुल्क अथवा किसी प्रकार की देय राशि बकाया है l

5- पूर्व परीक्षा (भाग 1 या 2 ) किसी अन्य महाविद्यालय से उत्तीर्ण किया है, और भाग 2 या 3 में प्रवेश चाहता है l

6- ऐसे अभ्यर्थी जिन्होंने अपनी पिछली परीक्षा (योग्यता प्रदायी परीक्षा ) 2007 अथवा इसके पहले उत्तीर्ण की है l (केवल स्नातक स्तर हेतु लागू ) l

7- ऐसे अभ्यर्थी जिसने किसी कक्षा के प्रथम भाग या द्वितीय भाग की परीक्षा तीन वर्ष पूर्व दी है और अब द्वितीय या तृतीय भाग में प्रवेश चाहता है l

यदि कोई अभ्यर्थी उपरोक्त तथ्यों को छिपाकर अथवा विश्वविद्यालय के मान्य नियमों के विपरीत प्रवेश प्राप्त भी कर लेता है तो सही जानकारी प्राप्त होते ही उसका प्रवेश रद्द कर दिया जायेगा, जिसके बदले में उसे किसी प्रकार की क्षतिपूर्ति  संभव नहीं हो सकेगी l

विश्वविद्यालय के अधिनियम एवं नियमावली के अनुसार किसी भी आवेदन पत्र को बिना कारण बताये अस्वीकृत किया जा सकता है l

प्रवेश के इन नियमों में शासन अथवा विश्वविद्यालय के निर्देशानुसार कभी भी परिवर्तन किये जा सकते हैं l प्रवेश के लिए आवेदन पत्र देते समय यह ध्यान रखें की आवेदन पत्र में अंकित सभी प्रमाण पत्रों, तथा फोटो आदि का संलग्न करना अत्यंत आवश्यक है l इनमें किसी एक के भी अभाव में प्रवेश प्राप्त करना संभव नहीं होगा l

यह ध्यान रखें की अपने प्रमाण-पत्रों की केवल प्रमाणित प्रतिलिपि संलग्न करें l स्थानान्तरण प्रमाण पत्र मूल रूप से संलग्न करना आवश्यक है, जिसके अभाव में प्रवेश नहीं हो सकेगा l अंक पत्र की मूल प्रति न लगायें किन्तु मूल प्रतियों को प्रवेश के समय जाँच हेतु अवश्य लायें l